5 आसान तरीकों का उपयोग करके नकारात्मक विचारों को कैसे रोकें

एक आदत इतनी प्रभावशाली हो सकती है कि वह आपकी बाकी भावनाओं पर हावी हो जाए। एक घाव का इलाज करना आपके मानसिक स्वास्थ्य के इलाज की तुलना में बहुत आसान है। कुछ आसान तरीके हैं जो आप हर दिन कर सकते हैं, उसे ट्रैक करने के लिए, जैसे की जर्नलिंग शुरू करना या केवल नोट्स लिखना कि आपका दिन कैसा रहा। यह सिर्फ खराब मानसिक स्वास्थ्य से पीड़ित लोगों के लिए नहीं है। प्रत्येक व्यक्ति को प्रतिदिन अपनी भावनाओं को समझना चाहिए। यह आपको अपने नकारात्मक विचारों के पीछे के कारण को समझने में मदद करेगा।

विशेष रूप से, आजकल, जब मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दे इतने व्यापक हैं, आपको यह समझने की आवश्यकता है कि क्या इसके लिए ​​सहायता की आवश्यकता है या यह कुछ ऐसा है जिसे आप स्वयं ही ठीक कर सकते हैं।

कभी-कभी हम नहीं जानते कि हमें नकारात्मक विचार क्यों आते हैं। इसके पीछे कारण हैं और हम अपनी भावनाओं पर काबू पा कर उन्हें नियंत्रित कर सकते हैं। आइए जानते हैं 5 आसान तरीकों का उपयोग करके नकारात्मक विचारों को कैसे रोकें। लेकिन, ऐसा करने से पहले, यह जान लें कि यह आपका मानसिक स्वास्थ्य है और आपको इसके लिए काम करना होगा।

सशक्त सकारात्मक विचार

दुखी होना बिल्कुल ठीक है। आप एक इंसान हैं और उदासी आपकी भावनाओं का हिस्सा है। लोगों, सोशल मीडिया आदि से ब्रेक लेना ठीक है। आप किसी भी स्थिति या घटना से उभरने के लिए समय लेते हैं। कुछ चीजों से आगे बढ़ने में सालों लग सकते हैं। मगर सबसे महत्वपूर्ण है कठिनाइयों से उभरने का का प्रयास करना। आपको जो नहीं करना चाहिए वह है मस्तिष्क पर सकारात्मक विचारों को थोपना।

स्वचालित नकारात्मक विचार

स्वचालित नकारात्मक विचार ऐसी चीजें हैं जिन्हें आपको अपने नकारात्मक विचारों पर काबू पाने के लिए रिकॉर्ड करना चाहिए। आपको अपने मूड को समझने की जरूरत है, ऐसे विचार जो आपके मन में नकारात्मक महसूस होने पर अपने आप आते हैं। आपको यह महसूस करने की आवश्यकता है कि जब यह हुआ था तब आप किसके साथ थे, आप कहाँ थे, और और भी बहुत कुछ? ऐसी कई चीजें हैं जो आपको लगता है कि आपके साथ घटित हो रही हैं क्योंकि आप एक बुरे वातावरण में हैं और आप सुरक्षित महसूस नहीं करते हैं। इसलिए, आपको अपने मानसिक स्वास्थ्य का ख्याल रखने के लिए इन बातों को जानना होगा। इसके अलावा, कुछ स्थितियों में आपके मूड को जानने से आपको फायदा होगा। मान लीजिए, आपको लगता है कि “आप कोई काम नहीं कर सकते हैं”, यह सोचने के बावजूद कि आप यह सोचिये कि आप इसके लिए कैसे नए हैं और आप एक इंसान हैं। गलतियाँ करना ठीक है और अब आप जानते हैं कि क्या नहीं करना है।

5 आसान तरीकों का उपयोग करके नकारात्मक विचारों को कैसे रोकें
5 आसान तरीकों का उपयोग करके नकारात्मक विचारों को कैसे रोकें

विचार का परीक्षण

अपने स्वचालित नकारात्मक विचारों को पहचानने के बाद, अब उनकी जांच करने का समय आ गया है। यह कहां से आ रहा है? क्या यह अतीत से है या एक भावना है जो आपके कुछ खास लोगों या वातावरण मे रहने की वजह से है? सबसे अच्छी चीज जो आप किसी के लिए कर सकते हैं, वह है एक दोस्त के रूप में उनके लिए मौजूद रहना। तो, खुद के लिए ऐसा क्यों नहीं करते? अपने आप से ऐसे बात करें जैसे आप किसी ऐसे दोस्त से बात करेंगे जो संकट में है। यदि यह अतीत में हुई किसी घटना से उत्पन्न प्रतिक्रिया है, तो इससे कोई फर्क नहीं पड़ता क्योंकि आप वही व्यक्ति नहीं हैं जैसे आप पिछले सप्ताह थे। केवल स्वयं के प्रति सकारात्मक विचार ही आपको नकारात्मक विचारों से बाहर निकलने में मदद कर सकती है।

ताकतवर भावनाएं

सिर्फ इसलिए कि आपके नकारात्मक विचार आपकी विवेक पर हावी हैं, आपको उनसे बचना नहीं चाहिए। हां, आपने ठीक सुना? इसे टालें नहीं, इसके विपरीत इसका स्वागत करें। नकारात्मक या भारी विचारों का स्वागत करना एक रोलर कोस्टर हो सकता है। लेकिन अपने दिमाग को उत्पन विचारों से परिचित रहना उन्हें अनदेखा करने से कहीं ज्यादा आसान है। यदि आप अपने विचारों को पहचानते हैं, तो आप आसानी से उस विचार से आगे बढ़ सकते हैं। यदि आप इसे अनदेखा करते हैं, तो यह आपके सिर में लंबे समय तक रहेगा। इसे महसूस करें, इसके बारे में सोचें, यह कैसे और क्यों उभरा, और आगे बढ़ें।

5 आसान तरीकों का उपयोग करके नकारात्मक विचारों को कैसे रोकें
5 आसान तरीकों का उपयोग करके नकारात्मक विचारों को कैसे रोकें

विचार जो आपको चाहिए

किसी भी प्रकार के उपचार में, प्राथमिक चीजों में से एक यह है कि स्वयं पर कुछ भी थोपना नहीं है। अक्सर ऐसा होता है कि हम अपने आप से कहते हैं कि “हमें अधिक खाना चाहिए”, “हमें जिम जाना चाहिए”, या “हमें व्यायाम करना शुरू कर देना चाहिए”। इन सबके पीछे मंशा मानसिक रूप से अधिक मजबूत और स्वस्थ होना है। “मुझे चाहिए” के विपरीत, “मैं कोशिश करूँगा” कहो और अपने प्रयास पर गर्व करो। यहाँ मुद्दा ‘चाहिए’ शब्द का है। प्रयास के बावजूद, यह अपराध बोध को ट्रिगर कर सकता है, आपको नीचा महसूस करवा सकता है। हमेशा याद रखें कि उपचार में समय लगता है और जिस क्षण आप अपना ख्याल रखना शुरू करते हैं, आप लगभग वहां होते हैं।

About Author /

3 Comments

  • A WordPress Commenter
    2 years ago Reply

    Hi, this is a comment.
    To get started with moderating, editing, and deleting comments, please visit the Comments screen in the dashboard.
    Commenter avatars come from Gravatar.

  • Testymo
    2 years ago Reply

    This is really amazing! Aliquid ex ea commodi consequatur?

    • Mike Smythson
      2 years ago Reply

      Yes sure!
      Sed ut perspiciatis unde omnis iste natus sit voluptatem accusantium doloremque laudantium.

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Start typing and press Enter to search